Breaking

उत्तर प्रदेश में नकलमाफियाओ का राज ... लगाम हुयी बेलगाम। बेरोजगारी चरम स्थिति में।

आज उत्तर प्रदेश की स्थिति विकास के क्षेत्र में तो क्या बेरोजगारी के  क्षेत्र में काफी गंभीर स्थिति से ग्रसित है।एक तरफ जहा उत्तर प्रदेश सरकार ने उत्तर प्रदेश बोर्ड में नकल माफियाओ पर लगाम लगायी है वही दूसरी तरफ युवाओ का भविष्य निर्धारित करने वाली कंपनी , बोर्ड , चयनकर्ता युवाओ का भविष्य अधर में कर रहे है।
यह एक चिंता का विषय है  कि कोई भर्ती  में एग्जाम पेपर परीक्षा से पहले ही प्राप्त कर लेता है तो कोई चयन न होने की दशा में भी चयनित हो जाता है।
Image result for uppcl scam
हाल ही में यूपी एस सी के एग्जाम में चौकाने वाले मामले जैसी ही सामने आये । इस मसले सबको चौका दिया इससे पहले यू पी पी सी एल, एस एस सी,  यूपी एस एस एस सी सबने नकल माफियोओ ने अपनी कसल नही छोडी है।
इस बात में कोई दो राय नही कि उत्तर प्रदेश सरकार अच्छा कार्य कर रही है मगर जो भर्ती कुछ जालसाजो की वजह से अधर में पड़ जाती है उनके विषय में सोचना चाहिये । अब बात यह है कि क्या सरकार इन मामले में भी हस्तक्षेप करे। क्या ये जरुरी है ।Image result for up police exam leak
जी हा, ये बहुत जरुरी है क्योकि ये देश के युवाओ का सवाल है जो युवा बरसो से सरकारी नोकरी की तलाश मे खुब मेहनत करता है ओर अऩ्त में एग्जाम  केसिंल हो जाता है या लीक हो जाता है ।
फिर काटते रहो कोर्ट के चक्कर ।Image result for uppsc paper leak
मामला यहा भी नही थमता है । कोर्ट जाने के बाद भी यह पता नही चलता कि ये भर्ती कब तक पूरी हो जायेगी । हा मिलती है तो केवल तसल्ली वो भी जब जेब से हजारो रुपये खर्च हो जाये क्योकि कोर्ट में कम से कम वकील लगभग 20000 रुपये में होता है। ओर ये रकम एक विधार्थी के लिये मुस्किल होती है। फिर भी ज्यो त्यो करके ये सब होता है फिर इन्तजार करता है कि भर्ती कब पूरी हो । फिर पता चला ये भर्ती पाचं छः साल बाद पूरी होगी तब तक वह व्यक्ति इस भर्ती की उम्मीद छोड़ चूका होता है या कही प्राईवेट या इस दुनिया को ही अलविदा कह चुका होता है।Image result for ssc leak exam
जब हम टीवी के न्युज चैनल पर दो बुद्धीजीवियो को बहस करते देखता हुँ तो बड़ी हसीँ आती है कि ये असली मुद्दे पर नही ब्लकि एक दूसरे पर तंज कसते है।
इन लोगो से ये बात कहने वाला शायद वह टीवी एन्कर भी नही कि बेरोजगारी व विकास के मुद्दे पर बात करे। मगर ये भी लग जाता है इन दोनो की बातो का लुफ्त उठाने ।
खैर उम्मीद करता हू कि कानून व्यवस्था उक्त मसले को  जल्दी ही संग्यान में लेकर उचित कदम उठायेगी।